Weekly Newsletter of CSC e-Governance Services India Limited, May 14, 2019  |   CSC network is one of the largest Government approved online service delivery channels in the world
 
PMGDISHA
To Read In English click Here


 बेलारी में पीएमजीदिशा अभियान का आयोजन

कर्नाटक का बेलारी जिला जिले भर में प्रधानमन्त्रीग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान का सक्रिय रूप से प्रचार कर रहा है। जिले में आयोजित अधिकांश कार्यक्रमों में भारी भागीदारी देखी गई है और गांव-स्तर के उद्यमियों के सभी प्रयासों ने जिले और गांवों को एक डिजिटल जिले में बदलने में मदद की है।

होसपेट के कल्लाहल्ली में, एचबी हल्ली में बेनाकाल्लू ग्राम पंचायत और कुडगीगी में शिवपुरा में ग्रामीणों को समायोजित करने और उन्हें डिजिटल रूप से साक्षर बनाने के लिए, एक नए केंद्र का उद्घाटन किया गया। उद्घाटन के दौरान लाभार्थियों सहित 100 से अधिक ग्रामीणों ने भाग लिया। इसके अलावा, पड़ोसी ग्राम पंचायतों के ग्रामीण स्तर के उद्यमियों ने भी नए केंद्र के उद्घाटन के लिए भाग लिया। नागरिकों ने कार्यक्रम के तहत दाखिला लेने में बहुत रुचि दिखाई है। प्रशिक्षण कार्यक्रम पूरा होने के बाद जिले में आयोजित विभिन्न के दौरान प्रमाण पत्र भी वितरित किए गए।



 


 निवेशक जागरूकता परियोजना (IAP) के तहत प्रभावकारी कहानियों की झलक

सीएससी एसपीवी ने कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय (MCA) के साथ मिलकर आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, असम, मेघालय, मणिपुर, त्रिपुरा, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड और सिक्किम में ग्रामीण नागरिकों के लिए वित्तीय ज्ञान और निवेश के पहलुओं में सुधार के लिए IAP परियोजना को लागू किया है।

ग्रामीण भारत के अक्सर उपेक्षित गरीबों को बचत और निवेश के बारे में जागरूकता की आवश्यकता होती है, जो उन्हें अपनी मेहनत की कमाई को सुरक्षित रखने का अवसर प्रदान करता है। परियोजना के माध्यम से ग्रामीण नागरिक बचत और निवेश की विभिन्न अवधारणाओं से परिचित हैं। यह परियोजना उन्हें विभिन्न पॉलिसी और योजनाओं जो बाजार में उपलब्ध हैं के बारे में जानने में सक्षम बनाती है । यह कार्यक्रम भावी ग्रामीण निवेशक को शिक्षित करने के लिए संकल्पित है ताकि उसे बचत, निवेश और पूंजी निर्माण / संचय का लाभ पता चल सके और पोंजी स्कीमों में अपना पैसा न खोने के लिए जागरूकता प्रदान की जा सके।

अब तक 25627 IAP सत्र सीएससी के माध्यम से आयोजित किए गए हैं, जिसमें 1217523 ग्रामीण नागरिकों को प्रशिक्षित किया गया है।
आप हमें इस लिंक पर फॉलो कर सकते हैं: https://www.iepfportal.in/


नीचे IAP परियोजना के तहत नागरिकों द्वारा साझा की गई कुछ सफलता / प्रभाव की कहानियां


प्रतिभागी का नाम:शंकर
जिला- गुलबर्गा,
कर्नाटक
शंकर कर्नाटक के सेदम गांव का निवासी है। वह अपने गांव में एक किराने की दुकान चलाते हैं। एक दिन वीएलई नवीन ने उन्हें निवेशक जागरूकता कार्यक्रम के बारे में बताया और उन्हें अपने केंद्र में सत्र में भाग लेने की सलाह दी। शंकर ने बताया कि पहले उन्हें बजट बचाने और बनाने के बारे में कुछ भी पता नहीं था, लेकिन सत्र में भाग लेने के बाद उन्होंने बजट तैयार करने और अपने परिवार के लिए पैसे बचाने की प्रक्रिया को समझा है। ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरह के जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने के लिए शंकर सीएससी और भारत सरकार के शुक्रगुजार हैं।


प्रतिभागी का नाम: जाकिर खान
गाँव: मड़िया
राज्य: कर्नाटक
जिला: गुलबर्गा
जाकिर खान कर्नाटक के गुलबर्गा जिले के मड़िया गाँव के एक लौह श्रमिक हैं । उन्हें वीएलई सहारनबसप्पा के माध्यम से IAP सत्र के बारे में पता चला। पहले उन्हें बजट बनाने और बचत के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। श्री जाकिर ने बताया कि हर बार उन्हें पैसे की कमी होती थी और उन्हें दोस्तों और रिश्तेदारों से पैसे उधार लेने पड़ते थे। IAP सत्र में भाग लेने के बाद अब वह जानते है कि स्मार्ट तरीके से कमाई कैसे प्रबंधित करें और कठिन समय के लिए कैसे पैसे बचाएं। सत्र के आयोजन के लिए वह वीएलई और भारत सरकार के बहुत आभारी हैं।


Share This!